आज के सामान्य ज्ञान में पढ़े – मानव रक्त पर आधारित जीव विज्ञान के नोट्स -Read in Today’s General Knowledge – Biology Notes on Human Blood

आज के सामान्य ज्ञान में पढ़े – मानव रक्त पर आधारित जीव विज्ञान के नोट्स -Read in Today’s General Knowledge – Biology Notes on Human Blood

मानव रक्‍त

  • मानव शरीर में रक्‍त की मात्रा शरीर के कुल भार का 7% है।
  • यह क्षारीय विलयन है जिसका pH मान 7.4 होता है।
  • मानव शरीर में औसतन 5-6 लीटर रक्‍त पाया जाता है।

रक्‍त के दो भाग होते हैं:

(1) प्‍लाज्‍मा,
(2) रक्‍त कणिकाएं

(1) प्‍लाज्‍मा

  • यह रक्‍त का तरल भाग है। रक्‍त का 60% भाग प्‍लाज्‍मा होता है। इसका 90% भाग जल, 7% प्रोटीन, 0.9% लवण और 0.1% ग्‍लूकोज होता है। शेष अन्‍य पदार्थ काफी कम मात्रा में उपस्थित होते हैं।
  • प्‍लाज्‍मा के कार्य – शरीर से पचे भोजन, हार्मोन, उत्‍सर्जी पदार्थों आदि का परिवहन प्‍लाज्‍मा के माध्‍यम से होता है।
  • सेरम – प्‍लाज्‍मा से फाइब्रिनोजन एवं प्रोटीन को निकाल देने पर शेष बचे भाग को सेरम कहते हैं।

(2) रक्‍त कणिकाएं (रक्‍त का 40% भाग)

इसको तीन भागों में बांटा जाता है:

1. लाल रक्‍त कणिकाएं (आरबीसी)

  • इसमें नाभिक का अभाव होता है। अपवाद – ऊँट और लामा।
  • आरबीसी का निर्माण अस्थि मज्‍जा में होता है। (भ्रूण अवस्‍था में इसका निर्माण यकृत में होता है।)
  • इसका जीवनकाल 20 से 120 दिन होता है।
  • इसका विनाश प्‍लीहा में होता है। इसलिये प्‍लीहा को आरबीसी की कब्रगाह कहते हैं।
  • इसमें हीमोग्‍लोबिन पाया जाता है, जिसमें लौह युक्‍त हीम नामक यौगिक पाया जाता है, इसके कारण रक्‍त का रंग लाल होता है।
  • आरबीसी का मुख्‍य कार्य सभी कोशिकाओं को ऑक्‍सीजन पहुँचाकर उससे कार्बनडाईआक्‍साइड वापस लाना होता है।
  • एनिमिया रोग का कारण हीमोग्‍लोबिन की कमी है।
  • सोते समय आरबीसी में 5% की कमी हो जाती है और 4200 मीटर की ऊँचाई पर रहने वाले लोगो के आरबीसी में 30% की वृद्धि हो जाती है।

2. श्‍वेत रक्‍त कणिकाएं (डबल्‍यूबीसी) अथवा ल्‍यूसोसाइट्स

  • इसका निर्माण अस्थि मज्‍जा, लिम्‍फ नोड और कभी-कभी यकृत और प्‍ली‍हा में होता है।
  • इसका जीवन काल 1 से 4 दिन होता है।
  • श्‍वेत रक्‍त कणिकाओं में नाभिक पाया जाता है।
  • इसका मुख्‍य कार्य शरीर की रोगो से रक्षा करना है।
  • आरबीसी और डबल्‍यूबीसी का अनुपात 600:1 है।

3. रक्‍त बिम्‍बाणु अथवा थ्रोम्‍बोसाइट्स:

  • यह केवल मानव एवं अन्‍य स्‍तनधारियों के रक्‍त में पाया जाता है।
  • इसमें नाभिक का अभाव होता है।
  • इसका निर्माण अस्थि मज्‍जा में होता है।
  • इसका जीवनकाल 3 से 5 दिन का होता है।
  • इसकी मृत्‍यु प्‍लीहा में होती है।
  • इसका मुख्‍य कार्य रक्‍त का थक्‍का बनने में मदद करना है।

रक्‍त का कार्य:

  • शरीर के तापमान को नियंत्रित करना और शरीर की रोगों से रक्षा करना आदि।
  • ऑक्‍सीजन, कार्बनडाई आक्‍साइड, पचे भोजन का परिवहन, हार्मोन का संवहन आदि।
  • शरीर के विभिन्‍न भागों के मध्‍य समन्‍वय स्‍थापित करना।

रक्‍त का थक्‍का बनाना:

  • क्लॉटिंग के दौरान निम्नलिखित प्रतिक्रियाएं होती हैं-

(ए) थ्रोम्बोप्लास्टिन + प्रोथ्रोबिन + कैल्शियम = थ्रोम्बिन
(बी) थ्रोम्बिन + फाइब्रिनोजन = फाइब्रिन
(सी) फाइब्रिन + रक्त काष्ठक = थक्का 

  • विटामिन K रक्त के थक्के में मददगार है।

मानव रक्‍त समूह

  • रक्‍तसमूह की खोज कार्ल लैनस्‍टीनर ने 1900 में की थी।
  • इसके लिये उन्‍हें वर्ष 1930 में नोबल पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था।
  • मानव रक्‍त समूहों में विभिन्‍नता का मुख्‍य कारण ग्‍लाइको प्रोटीन है जो लाल रक्‍त कणिकाओं में पाया जाता है। इसे एण्‍टीजन कहते हैं। एण्‍टीजन दो प्रकार के होते हैं – एण्‍टीजन A और एण्‍टीजन B
  • एण्‍टीजन अथवा ग्‍लाइको प्रोटीन की उपस्थिति के आधार पर, मानव में चार रक्‍त समूह पाये जाते हैं:
  • जिसमें एण्‍टीजन A पाया जाता है – रक्‍त समूह A
  • जिसमें एण्‍टीजन B पाया जाता है – रक्‍त समूह B
  • जिसमें एण्‍टीजन A और B पाया जाता है – रक्‍त समूह AB
  • जिसमें कोई भी एण्‍टीजन नहीं पाया जाता है – रक्‍त समूह O
  • रक्‍त के प्‍लाज्‍मा में एक विपरीत प्रकार की प्रोटीन पायी जाती है। इसे एण्‍टीबॉडी कहते हैं। यह भी दो प्रकार की होती है – एण्‍टीबॉडी a और एण्‍टीबॉडी b.
  • रक्‍त समूह O को सर्वदाता समूह कहा जाता है क्‍योंकि इसमें कोई भी एण्‍टीजन नहीं होता है।
  • रक्‍त समूह AB को सर्वग्राही समूह कहते हैं क्‍योंकि इसमें कोई भी एण्‍टीबॉडी नहीं होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *